ढून्ढ तो लेते तुम्हे हम,,
शहर में भीड़ इतनी भी न थी,,,
पर रोक दी तलाश हमने क्योंकि,
तुम खोये नहीं थे, बदल गये थे..

Comments

Popular posts from this blog